Top 100 Facts about our Daily Life in Hindi, Facts about our Friend, Family & Society in Hindi

 कुछ ऐसे रोचक तथ्य है जो बहुत मजेदार होते है और अपने जीवन में देखते और महसूस करते है , यहाँ ऐसे ही 100 रोचक बातें साझा कर रहा हूँ।  आशा है आपको पसंद आएगा। 


Top 100 Facts about our Daily Life in Hindi, Facts about our Friend, Family & Society in Hindi


  1. यकीन मानिये प्यार में पड़ने के लिए मात्र 4 मिनट ही पर्याप्त होते हैं.
  2. किसी के लिए आप अपनी फीलिंग्स जितना छुपाते हैं, वह उतनी ज्यादा बढ़ती जाती है.
  3. लगभग 90% लोग अपने पत्र या मैसेज में वे बा
  4. तें लिखते हैं, जो वे कह नहीं पाते.
  5. स्मार्ट लोग अक्सर खुद को कम आंकते हैं और अज्ञानी लोग सोचते हैं कि वे उत्कृष्ट हैं.
  6. यदि आप अपने पसंदीदा गीत का अलार्म बना लें, तो कुछ दिनों में आप उसे नापसंद करने लगेंगे.
  7. जिस तरह का संगीत आप सुनते हैं, वह आपके दुनिया को देखने के नज़रिये को प्रभावित करता है.
  8. जो जितना ज्यादा सोता है, वह उतना ही ज्यादा उदास रहता है.
  9. किसी अन्य भाषा में सोचने पर लिए गये निर्णय अधिक तर्कसंगत होते हैं.
  10. इसी तरह लोग सच्ची बातों की तुलना में अफ़वाह पर फ़ौरन यकीन कर लेते हैं.
  11. जब लोग ग्रुप में बैठकर किसी का मज़ाक उड़ा रहे हो, तब वे उस इंसान की ओर ज्यादा देखते है, जिन्हें वे अपने दिल के करीब मानते हैं.
  12. भीड़ में अपनी जेब में हाथ डाल लेने वाला व्यक्ति शर्मीले स्वभाव का होता है.
  13. हम जितने ख़ुश रहेंगे, हमें उतनी ही कम नींद की आवश्यकता होगी.
  14. एक अध्ययन के अनुसार अपने बजाय दूसरों पर पैसा खर्च करने से ज्यादा ख़ुशी मिलती है.
  15. विचारों में नकारात्मकतता अधिक होने पर शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता घट जाती है.
  16. एक शोध अनुसार लक्जरी ब्रांडों का सेल्समेन जितना रुखा होता है, बिक्री उतनी अधिक होती है.
  17. “Wrap rage” या “package rage” वह क्रोध और हताशा होती है, जब आप कोई पैकेज खोल नहीं पाते.
  18. यदि आपका कोई दोस्त, रिश्तेदार या करीबी आपसे आकर ये कहे कि तुमसे कुछ पूछना है, तो उस पल अपने द्वारा हाल ही में किये गए सारे बुरे काम याद आ जाते हैं.
  19. . यदि आपको लगता है कि आपको एक समय में दो लोगों प्यार है और परिस्थिति ऐसी है कि उनमें से एक को आपको छोड़ना है, तो पहले वाले को छोड़िये. क्योंकि यदि आप उसे सच में प्यार करते, तो दूसरा आपकी ज़िंदगी में आता ही नहीं.
  20.  किसी से बात करते समय उसका नाम लेने पर वह व्यक्ति आपको और ज्यादा पसंद करने लगता है.
  21. जो लोग अधिक बार कसम खाते हैं, वे उन लोगों की तुलना में अधिक ईमानदार होते हैं, जो ऐसा नहीं करते.
  22.  बुद्धिमान व्यक्ति औसत व्यक्ति की तुलना में कम दोस्त बनाते हैं. व्यक्ति जितना होशियार होता है, वह उतना ही चयनात्मक होता है.
  23. शोधकर्ताओं ने पाया है कि आशावाद (optimism) एक सिखाने योग्य कौशल है. इसे आप ख़ुद को भी सिखा सकते हैं.
  24. कपड़ों का असर मूड पर भी होता है. अच्छे कपड़े पहनने पर मूड अच्छा रहता है.
  25. “इरोटोमैनिया” (Erotomania) एक ऐसा मनोवैज्ञानिक विकार है जिसमें प्रभावित लोगों को महसूस होता है कि कोई मशहूर व्यक्ति उनके प्यार में पड़ा हुआ है.
  26. रोने से आप बेहतर महसूस करते हैं, आपका तनाव कम होता है और साथ ही इससे शरीर का स्वास्थ्य बेहतर होता है.
  27. एक अध्ययन में पाया गया कि पानी के पास रहने से हम अधिक शांत, ख़ुश और रचनात्मक बन सकते हैं.
  28. दुनिया के अधिकांश ड्राइवरों को लगता है कि वे दूसरे ड्राइवरों से बेहतर हैं.
  29. लंबे समय तक अकेले रहना आपकी सेहत के लिए उतना ही बुरा है, जितना एक दिन में 15 सिगरेट पीना.
  30. हर किसी को ख़ुश रखने की कोशिश करने वाले लोग अक्सर अकेलेपन के शिकार होते हैं.
  31. जो लोग सबसे अच्छी सलाह देते हैं, वे आमतौर पर सबसे ज्यादा समस्याओं से जूझ रहे होते हैं.
  32. गुड मॉर्निंग और गुड नाइट टेक्स्ट मेसेज दिमाग के उस हिस्से को सक्रिय करते हैं, जो ख़ुशी के लिए ज़िम्मेदार होता है.
  33. वैज्ञानिकों के अनुसार, मस्तिष्क रिजेक्शन को शारीरिक दर्द जैसा ही महसूस करता है.
  34. एक शोध से पता चला है कि सिर्फ प्लान ‘बी’ के बारे में सोचने भर से यह संभावना कम हो सकती है कि आप प्लान ‘ए’ पूरा करेंगे.
  35. 2018 के एक मनोविज्ञान के अध्ययन में पाया गया है कि जो करोड़पति अपनी संपत्ति स्वयं अर्जित करते है, वे उन करोड़पतियों की तुलना में अधिक ख़ुश रहते हैं, जिन्हें उनकी संपत्ति विरासत में मिल होती है.
  36. हमारी मनोदशा हमारे बात करने के तरीके को प्रभावित नहीं करती. लेकिन जिस तरह से हम बात करते हैं, वह हमारी मनोदशा को प्रभावित करता है.
  37. सफ़र करने से मस्तिष्क का स्वास्थ्य अच्छा रहता है. इसलिए अधिक सफ़र करने वालों में दिल का दौरा पड़ने की संभावना और अवसाद का खतरा कम होता है.
  38. अपने भीतर के विचारों को कागज पर लिख लेने से तनाव कुछ कम हो जाता है और मूड पहले से बेहतर हो जाता है.
  39. शादीशुदा लोगों को कुंवारे लोग अधिक ख़ुश लगते हैं, जबकि कुंवारे लोगों को शादीशुदा.
  40. दुनिया के 95% लोग जब भी नई पेन ख़रीदते हैं, तो सबसे पहले उससे अपना नाम लिखते हैं.
  41.  यदि किसी व्यक्ति को कोई काम करने से मना किया जाये, तो वो व्यक्ति सबसे पहले उसी काम को करने के बारे में ज़रूर सोचता है.
  42. कई बार कोई व्यक्ति किसी बात का जवाब इसलिए नहीं देता क्योंकि उसे लगता है कि सामने वाला उसे समझने के लायक नहीं है.
  43. बात करते समय यदि आप किसी को अपना बैग देते हैं, तो सामने वाला व्यक्ति बिना कुछ सोचे ही आपका बैग अपने हाथ में ले लेता है.
  44.  जिन व्यक्तियों में आत्म-विश्वास की कमी होती है, वे दूसरों की कमियाँ निकालने में माहिर होते हैं.
  45. कॉमेडियन या मज़ाकिया किस्म के लोग अपने जीवन में दूसरों की तुलना में कहीं ज्यादा उदास होते हैं.
  46. जो जितने ज्यादा ठंडे कमरे में सोता है, उसके उतने ही ज्यादा डरावने सपने आने की संभावना बढ़ जाती है.
  47. दुनिया के 85% लोग सोने के पहले प्लान्स के बारे सोचते हैं, जो वे अपनी ज़िंदगी में करना चाहते हैं.
  48. मानव व्यवहार संबंधी अध्ययनों से पता चला है कि अपना मोबाइल खो देने वाले व्यक्ति को ठीक वैसी घबराहट महसूस होती है, जो मौत के नज़दीक होने पर होती हैं.
  49. ख़ुशगवार लोगों के साथ रहने से ख़ुशी मिलती है. इसलिए लोग ख़ुश गवार लोगों के साथ रहना पसंद करते हैं.
  50. समूह में बात करे रहे 80% व्यक्ति शिकायतें कर रहे होते हैं.
  51. कभी गौर फरमाइगा कि ख़ुशी का पहला आँसू दाहिनी आँख से और दुःख का पहला आँसू बाई आँख से निकलता है.
  52.  मानव स्वभाव यही है कि वे उन लोगों को नजरअंदाज करने लगते हैं, जो उन्हें पसंद करते हैं और उन पर अधिक ध्यान देते हैं, जो उनकी उपेक्षा करते हैं.
  53. लगभग 90% लोग अपने पत्र या मैसेज में वे बातें लिखते हैं, जो वे कह नहीं पाते.
  54.  दुनिया के 60% लोग अपनी नकारात्मक भावना से छुटकारा पाने के लिए संगीत सुनते हैं.
  55. शारीरिक रूप से थक जाने पर लोग अधिक ईमानदार हो जाते हैं. यही कारण है कि देर रात बातचीत के दौरान लोग कई बातों को कबूल कर लेते हैं.
  56. व्यस्त रहने पर लोग अधिक ख़ुश रहते हैं, क्योंकि व्यस्तता उन्हें जीवन की नकारात्मक चीजों के बारे में सोचने से रोकती है.
  57. यदि कोई व्यक्ति आपके सामने किसी की चुगली करता है, तो समझ जायें कि वह कहीं और भी आपकी चुगली अवश्य करता है.
  58. अकेलापन तब महसूस नहीं होता, जब आप अकेले होते हो. बल्कि तब महसूस होता है, जब कोई आपकी परवाह (care) नहीं करता.
  59. लोग अच्छी बातों की तुलना में बुरी बातों पर तुरंत विश्वास कर लेते हैं. किसी के बारे में अच्छी बात सुनकर लोग एक बार उस व्यक्ति से उस बारे में पूछने ज़रूर जाते है. लेकिन बुरी बातों पर तुरंत विश्वास कर लेते हैं.
  60. छोटी-छोटी बातों पर चिड़चिड़ा जाने या नाराज़ हो जाने वाले व्यक्ति से सामना हो, तो समझ जायें कि उसे आपके प्यार और साथ की ज़रूरत है.
  61. ज्यादा तकिये लेकर सोने वाला व्यक्ति कहीं न कहीं ख़ुद को बहुत अकेला महसूस कर रहा होता है.
  62.  सूर्य के प्रकाश में अधिम समय बिताने वाले लोग तनाव या अवसाद के शिकार कम होते हैं.
  63. आपका पसंदीदा गीत इसलिए आपका पसंदीदा होता है क्योंकि आप उससे कहीं न कहीं अपने जीवन की किसी भावनात्मक घटना के साथ जुड़ा हुआ पाते हैं
  64. लोग कभी इस बात को याद नहीं रखते कि आपने उनसे क्या कहा था. वे उस बात को याद रखते हैं कि आपने उन्हें कैसा महसूस कराया था.
  65. खुशी, क्रोध, उदासी, भय, घृणा और आश्चर्य ये ६ भावनाएं सार्वभौमिक रूप से पूरे विश्व में व्यक्त की जाती हैं.
  66. ईमानदार होने से अधिक दोस्त तो नहीं बनते, लेकिन जो बनते हैं वे पक्के दोस्त होते हैं.
  67. दुनिया के 68% लोग फैंटम वाइब्रेशन सिंड्रोम (Phantom Vibration Syndrome) के शिकार हैं. ‘फैंटम वाइब्रेशन सिंड्रोम’ में ऐसा महसूस होता है कि हमारा मोबाइल फोन वाईब्रेट हो रहा है, जबकि वास्तव में ऐसा नहीं हो रहा होता.
  68. एक अध्ययन अनुसार लगभग 72% लोगों के दिमाग में रचनात्मक विचार नहाते समय आते हैं.
  69. “तुम अब पहले जैसे नहीं रहे, बदल गए हो” कोई आपसे ये कहे, तो इसका मतलब है कि आपमें 95% वह चीज़ें बदल गई है, जो उस व्यक्ति को पसंद थी. बाकी आपमें कुछ नहीं बदला है.
  70. आज के दौर में तनाव का स्तर (Stress Level) कितना बढ़ गया है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि हाईस्कूल के बच्चों में बेचैनी का स्तर उतना ही है, जितना 1950 के दशक के आरंभ में औसत मनोरोग रोगियों में हुआ करता था.
  71. रात को सोने के पहले आप जिस किसी के बारे में सोच रहे होते हैं, वह या तो आपकी ख़ुशी का कारण होता है या फिर दुःख का.
  72. अधिक हँसने वालों में दूसरों की तुलना में दर्द सहने की क्षमता अधिक होती है.
  73. किसी को असामान्य तरीके से खाना खाते हुए देंखे, तो समझ जायें कि वो व्यक्ति किसी बात पर बहुत चिंतित है.
  74.  यदि कोई व्यक्ति छोटी-छोटी बात पर रो देता है, तो इसका मतलब है कि वह एक नरम दिल व्यक्ति है.
  75. अपनी बातों की तरफ़ लोगों का ध्यान खींचने का सबसे अच्छा तरीका ये है कि अपनी बात की शुरुवात कुछ इस तरह से की जाये : “वैसे मैं ये बताना तो नहीं चाहता था, लेकिन….”
  76. यदि आप किसी से बात कर रहे हों और वह इंसान अपना सिर नीचे झुकाए आपकी बात सुन रहा है, तो समझ जायें कि उसे आपकी बातों में कोई रूचि नहीं है. वह तो इसलिए चुपचाप सब सुन रहा है कि कहीं आपको बुरा न लग जाये.
  77. यदि कोई व्यक्ति किसी के बारे में बहुत अधिक बातें करता है, फिर चाहे वो सकारात्मक हो या नकारात्मक, तो इसका मतलब यह है कि वह उस व्यक्ति से अत्यधिक प्रभावित है.
  78. आपको “ना” बोलना आना चाहिए. यदि आप हर समय किसी के काम के लिए “हाँ” कहेंगे, तो वह इंसान आपकी उतनी इज्ज़त नहीं करेगा. लोग उनकी अधिक इज्ज़त करते हैं, जिनकी कुछ सीमायें होती हैं.
  79. यदि कोई समय निकालकर आपका काम करने में मदद कर रहा हो, तो उसे “जल्दी करो” कभी ना कहें.
  80. जो व्यक्ति जितना होशियार होता है, वह उतनी ही तेजी से सोचता है और और उसकी लिखावट उतनी ही बेढंगी होती है.
  81. किसी के साथ बहुत ज्यादा समय बिताने पर हम उसकी आदतें अपनाने लगते हैं.
  82. जिन लोगों में अपराध-भावना (Guilt) बहुत ज्यादा होती है, वे दूसरे लोगों के विचारों और भावनाओं को ज्यादा बेहतर तरीके से समझते हैं.
  83. तेज संगीत सुनकर आप शांत, तनावमुक्त और ख़ुश महसूस करते हैं.
  84. एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि 82% लोग किसी आकर्षक व्यक्ति के पास जाने में तब अधिक आत्मविश्वास महसूस करते हैं, जब उस व्यक्ति के साथ उसका कुत्ता होता है.
  85.  जब कोई उन चीजों के बारे में बोलता है, जिसमें वह वास्तव में रुचि रखता है, तो लोग उसे अधिक आकर्षक पाते हैं.
  86. अपने सबसे अच्छे दोस्त से शादी करने से तलाक का जोखिम 70% तक कम हो जाता है और उस शादी के जीवन भर चलने की संभावना बढ़ जाती है.
  87. बेतुकी बातों का व्यंग्यात्मक उत्तर देने वाले व्यक्ति का दिमाग अधिक स्वस्थ होता है.
  88. शोध में पाया गया है कि कोई महिला किसी बात को औसतन 47 घंटे और 15 मिनट तक ही गुप्त रख सकती है.
  89. जो लोग दो भाषाएं बोलते हैं, वे अनजाने में ही उस वक़्त अपना व्यक्तित्व बदल लेते है, जब वे एक भाषा से दूसरी भाषा में स्विच करते हैं.
  90. 16 से 28 वर्ष की उम्र में हुई दोस्ती के अधिक मजबूत होने और अधिक लंबे समय तक चलने की संभावना होती है.
  91. जब आप किसी प्रियजन का हाथ पकड़ते हैं, तो आपको दर्द कम महसूस होता है और आपकी चिंता कम हो जाती है.
  92. एक शोध पाया गया है कि हमारी स्मृति (memory) में इतनी आसानी से हेरफेर किया जा सकता है कि केवल 3 घंटों में हम आश्वस्त हो सकते हैं कि हमने अपनी किशोरावस्था में कोई अपराध किया था.
  93. अरचनात्मक क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों की तुलना में लेखकों के बाइपोलर डिसऑर्डर (Bipolar Disorder) से पीड़ित होने की संभावना 121% अधिक होती है.
  94. ट्रूमैन सिंड्रोम (Truman Syndrome) एक मनोवैज्ञानिक विकार है जिसमें रोगियों को लगता है कि वे किसी रियलिटी टीवी शो में रह रहे हैं
  95. पेरिस सिंड्रोम (Paris Syndrome) मुख्यतः जापानियों में होने वाला एक मनोवैज्ञानिक विकार है, जिसमें उन्हें लगता है कि पेरिस शहर वैसा नहीं है, जैसा उन्होंने सोचा था.
  96. “High place phenomenon” ऊँचे स्थान जैसे पुल आदि से कूद जाने की उत्कंठा होती है.
  97. कम बोलने वाले और सिर्फ़ मुद्दे की बात बोलने वाले व्यक्ति अपने राज़ छुपाने में माहिर होते हैं.
  98. झूठ बोलने में माहिर लोग झूठ पकड़ने में भी माहिर होते हैं. उनके सामने झूठ बोलते समय सावधान रहें.
  99. कोई व्यक्ति आपसे इसलिए जलता है, क्योंकि वह आपके जैसा बनना चाहता था, लेकिन बन नहीं पाया.
  100.  यदि आपसे कोई पेन मांगे, तो उसे बिना ढक्कन के पेन दीजिये. क्योंकि ज्यादातर लोग बिना ढक्कन की पेन अपनी जेब में नहीं डालते. इस तरह आपको अपनी पेन वापस मिलने की गुंजाइश ज्यादा रहेगी

No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...